- KhabarBat™ | Breaking News India

Breaking

KhabarBat™ | Breaking News India

News Website | Breaking News | latest Update

शुक्रवार, सप्टेंबर २३, २०२२



सैंकडों गोवंश की हो रही हैं प्रतिदिन मृत्यु  : आप नेता पप्पू लाल कीर
 
राजसमंद । पिछले कुछ महिनों में फैला लंपी संक्रमण अब विकराल रूप लेकर गौमाताओं के काल का कारण बन चुका हैं । जिससे सैकडों गायों की मृत्यु एवं हजारों गौवंश पीडित हैं। गौवंशों में फैले इस संक्रमण से गौमाताओं की रक्षा करने के लिए सैकडों की संख्या में गौभक्त मिलकर सेवा अभियानों के माध्यम से गौसेवा कार्य कर रहे है । लेकिन राज्य की कांग्रेस सरकार मौन होकर भारत जोडों यात्रा में व्यस्त हैं। संक्रमण के प्रकोप से राजसमंद सहित अधिकांश जिलों में हाहाकार मचा हुआ हैं । लेकिन राज्य सरकार द्वारा अभी तक उचित प्रबंध नही होने के कारण स्थिति विकराल बनती जा रही है ।
जो गौपालकों सहित गौप्रेमियों के लिए चिंता का विषय बना हुआ हैं।
आम आदमी पार्टी  ( आप ) नेता पप्पू लाल कीर, ने बताया की लंपी संक्रमण का फैलाव तीव्र गति से हो रहा हैं । जिससे आए दिन सैकडो गौमाताओं की मृत्यु के दुखद समाचार प्राप्त होते हैं। मृत पशुओं के उचित निस्तारण नहीं होने के कारण संक्रमण अधिक प्रसारित हुआ । जिसकी जिम्मेदारी राज्य सरकार और स्थानीय प्रशासन की हैं। उन्होनें कहा कि लंपी संक्रमण पर काबू पाने और गौपालको को समुचित चिकित्सकीय सुविधाएं उलब्ध कराने में जहां एक और राज्य सरकार विफल रही हैं । वहीं दूसरी तरफ राज्य में सैकडों सामाजिक संस्थाएं, हजारों गौभक्त सामाजिक कार्यकर्ता इस कार्य में तन-मन-धन से सेवाकार्य कर रहे है, जो सराहनीय हैं। विशेष रूप से राजसमंद की अनेक विशाल गौशालाएं गौसेवा का अभूतपूर्व सेवाकार्य कर रही हैैं । जिनसे सम्पर्क कर लोग गौमाताओं को इस बीमारी से बचाने के लिए अपना महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं।
कीर ने आमजन से सेवाकार्य करने की अपील की हैं । जिसमें उन्होने बताया की वर्तमान में श्राद्ध पक्ष चल रहा हैं, जिसमें दान-पूण्य का विशेष महत्व होता हैं। उन्होंने समाज के सभी सम्माननीय भामाशाहों, दानदाताओं, गौप्रेमियों और सामाजिक संस्थाओं, धार्मिक प्रतिष्ठानों और राजनीतिक दलों से व्यक्तिगत अपील की कि वे अपने गांव, गौशालाओं में गौमाता को बचाने हेतु यथा शक्ति प्रयास करें। गौमाता को इस खतरनाक बीमारी से बचाने का प्रयास करें, क्योंकि यही धर्म हैं, यही सेवा हैं। जीवदया और मानव कल्याण से जुडना ही मोक्ष का मार्ग हैं।