महाराष्ट्र के कई जिलों में बर्ड फ्लू ने दस्तक:करीब 9000 पक्षियों को मारने और 10 किमी के दायरे में पक्षियों की बिक्री में रोक - KhabarBat™

Breaking

KhabarBat™

kavyashilp™ Digital Media •Reg• MH20D0050703

११ जानेवारी २०२१

महाराष्ट्र के कई जिलों में बर्ड फ्लू ने दस्तक:करीब 9000 पक्षियों को मारने और 10 किमी के दायरे में पक्षियों की बिक्री में रोक


महाराष्ट्र:
कोरोना के कोहराम के बाद अब बर्ड फ्लू डरा रहा है. देश के कई राज्यों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है, जिसके बाद से ही हड़कंप मचा है. कई राज्यों में पक्षियों की मौत होने से कोहराम मचा है. सरकारों ने सुरक्षा के मद्देनजर पार्क, चिड़ियाघर और झीलों को बंद कर दिया है. महाराष्ट्र के कई जिलों में बर्ड फ्लू ने दस्तक दे दी है. महाराष्ट्र के ही परभणी में मुरूंबा गांव के पोल्ट्री फार्म में करीब 800 मुर्गियों की मौत हो गई. मुर्गियों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं ताकि इनकी मौत की वजह पता लगाई जा सके. जिला प्रशासन ने करीब 9000 पक्षियों को मारने और 10 किमी के दायरे में पक्षियों की बिक्री में रोक लगाने के आदेश दिए हैं.
महाराष्ट्र के परभनी जिले में मुर्गों में एवियन इन्फ्लूएंजा फैल रहा है. जबकि मुंबई, ठाणे, दापोली, बीड में भी इसकी पुष्टि हो चुकी है. हरियाणा में इस बीमारी को फैलने से रोकने के लिए संक्रमित पक्षियों को मारना जारी है. एक केंद्रीय दल ने हिमाचल प्रदेश का दौरा किया है और आज (सोमवार) पंचकूला पहुंचकर बीमारी फैलने वाली जगहों का निरीक्षण करेगी. वहीं यह Central team महामारी की जांच भी करेगी.

राज्यों को दिए गए निर्देश (Instructions given to states) वहीं राज्यों से कहा गया है कि इसे लेकर जागरूकता फैलाएं जिससे लोग अफवाहों से बच सकें. राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से अनुरोध किया गया है कि जल स्रोत( water bodies), चिड़ियों के बाजार, जू, पोल्ट्री फार्मों आदि में निगरानी बढ़ाई जाए. पक्षियों के शवों को अच्छी तरह से हटाने और और पोल्ट्री फार्मों में जैव सुरक्षा (Bio-security) भी मजबूत करने के लिए कहा गया है. वहीं पक्षियों को मारने (culling operations) के दौरान पीपीई किट और जरूरी सामान का भी पर्याप्त स्टॉक बनाए रखने के निर्देश दिए गए हैं.
पशुपालन और डेयरी विभाग Department of Animal Husbandry and Dairying के सचिव ने राज्य के पशुपालन विभागों से इसे लेकर अनुरोध किया है. इनसे कहा गया है कि बीमारी पर नजर रखने के साथ ही वो स्वास्थ्य विभाग के साथ communication और coordination करें, जिससे एवियन इन्फ्लुएंजा को लोगों में फैलने से रोका जा सके.