104 वर्ष की उम्र में ब्रह्माकुमारीज संस्था की प्रमुख राजयोगिनी दादी जानकी का देहावसान - KhabarBat™

Breaking

KhabarBat™

kavyashilp™ Digital Media •Reg• MH20D0050703

२७ मार्च २०२०

104 वर्ष की उम्र में ब्रह्माकुमारीज संस्था की प्रमुख राजयोगिनी दादी जानकी का देहावसान

राजयोगिनी दादी जानकी का 104 साल की उम्र में देहावसान




आबू रोड, 27 मार्च
महिलाओं द्वारा संचालित दुनिया के सबसे बड़े आध्यात्मिक संगठन ब्रह्माकुमारीज संस्थान की मुख्य प्रशासिका तथा स्वच्छ भारत मिशन ब्रांड अम्बेसडर राजयोगिनी दादी जानकी का 104 वर्ष की उम्र में देहावसान हो गया। माउण्ट आबू के ग्लोबल हास्पिटल में 27 मार्च को प्रातः 2 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। उन्हें पिछले दो महीने से स्वांस तथा पेट की तकलीफ थी जिसका इलाज चल रहा था। उनका अंतिम संस्कार ब्रह्माकुमारीज के अन्तर्राष्ट्ीय मुख्यालय शांतिवन में सम्मेलन सभागार के सामने गा्रउण्ड में कर दिया गया।
पूरी दुनिया भर में मानवता और नारी शक्ति का संदेश देने वाली राजयोगिनी दादी जानकी के निधन पर देश के राष्ट्पति रामनाथ कोविन्द ने गहरा दुख व्यक्त करते हुए टवीट किया कि अध्यात्म, समाज कल्याण और विशेष रुप में महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में उनका योगदान अमूल्य रहा है। वहीं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि दूसरों का जीवन बदलने में तथा नारी शक्ति के आध्यात्मिक सशक्तिकरण में उनका अमूल्य योगदान रहा है।
नारी शक्ति की प्रेरणास्रोत राजयेागिनी दादी जानकी का जन्म 1 जनवरी, 1916 को हैदराबाद सिंध, पाकिस्तान में हुआ था। वे 21 वर्ष की उम्र में ब्रह्माकुमारीज संस्थान के आध्यात्मिक पथ को अपना लिया था और पूर्णरुप से समर्पित हो गयी थी। आध्यात्मिक उड़ान में शिखर छू चुकी राजयोगिनी दादी जानकी मात्र चौथी तक पढ़ी थी। लेकिन आध्यात्मिक आभा से भरपूर भारतीय दर्शन, राजयोग और मानवीय मूल्यों की स्थापना के लिए 1970 में पश्चिमी देशों का रुख किया। दुनिया के 140 देशों में मनवीय मूल्यों के बीजारोपण के हजारों सेवाकेन्द्रों की स्थापना कर लाखों लोगों को एक नयी जिन्दगी दी।
रायजोगिनी दादी जानकी ने पूरे विश्व में मन, आत्मा की स्वच्छता के साथ बाहरी स्वच्छता के लिए अनोखा कार्य किया। जिसके लिए भारत सरकार ने स्वच्छ भारत मिशन की ब्रांड अम्बेसडर बनाया था। दादी जानकी के देहावसान की खबर सुनते ही देश विदेश के संस्था के अनुयाईयों ने भावभीनी के लिए योग साधना प्रारम्भ कर दी है। उनके पार्थिव शरीर को माउण्ट आबू से आबू रोड के शांतिवन लाया गया तथा दोपहर 12 बजे उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया।
इन्होंने दी श्रद्धांजलिः दादी जानकी अंतिम दर्शन में संस्थान की संयुक्त मुख्य प्रशासिका रजायेागिनी दादी रतनमोहिनी, संस्थान मे महासचिव बीके निर्वेर, अतिरिक्त महासचिव बीके बृजमोहन, मीडिया प्रभाग के अध्यक्ष बीके करुणा, कार्यक्रम प्रबन्धिका बीके मुन्नी, संस्थान के कार्यकारी सचिव बीके मृत्युंजय, यूरोपियन सेवाकेन्द्रों की प्रमुख बीके जयन्ति, दादी की सचिव बीके हंसा समेत वरिष्ठ पदाधिकारियों ने श्रद्धांजलि दी।
लाईव कराया गया पार्थिव देह का दर्शनः पूरे देश में लाक डाउन होने के कारण संस्थान के लेाग दादी के पार्थिव देह पर श्रद्धांजलि अर्पित नहीं कर सके। लेकिन देश विदेश के संस्था से जुड़े लोगोें को यूटयूब तथा लाईव टेलिकास्ट के जरिए अंतिम दर्शन कराया गया।

इन्होंने भेजा शोक संदेशः लोक सभा स्पीकर ओम बिड़ला, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवानी, बीजेपी चीफ जेपी नडडा, मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान, छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुईया उईके, राजस्थान के सीएम अशोक गहलौत, डिप्टी सीएम सचिन पायलट, यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, केन्द्रिय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल, राजस्थान के मंत्री बीडी कल्ला, छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेष बघेल, एमपी के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ, कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस यदिरुप्पा, गुजरात के सीएम विजय रुपाणी, राज्यपाल देवब्रत आचार्य, बाबा रामदेव, आचार्य लोकेश मुनि, कांग्रेस नेता शशि थरुर, छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम रमन सिंह, नेता प्रतिपक्ष बृजमोहन अग्रवाल समेत बड़ी संख्या में नेता और अभिनेताओं ने श्रद्धांजलि अर्पित की है।